रघुबीर कृपालु दयालु प्रभू…………ब्रह्मेश्वर नाथ मिश्र

प्रस्तुत है शरणागत भजन के रूप में मेरी ये रचना:———

https://rashtriyamukhyadhara.com/wp-content/uploads/2023/10/nagada-Ad-1a-e1696547149782.jpg

रघुबीर कृपालु दयालु प्रभू ,
मोहे शरण में अपनी राख प्रभू ।
मैं अधम कुटिल खल कामि प्रभू ,
तुम अधम उधारन स्वामि प्रभू ,
अब मोहे उबार कृपालु प्रभू ,
मोहे शरण में अपनी राख प्रभू ।
रघुबीर कृपालु दयालु———–
तुम शरणागत हितकारि प्रभू ,
मैं आयो शरण तुम्हारि प्रभू ,
अब करहु कृपा हे कृपालु प्रभू ,
मोहे शरण में अपनी राख प्रभू ।
रघुबीर कृपालु दयालु———–
तुम भवसागर के खेवैया प्रभू ,
मेरी डूब रही है नैया प्रभू ,
अब पार उतार कृपालु प्रभू ,
मोहे शरण में अपनी राख प्रभू ।
रघुबीर कृपालु दयालु———–

 

रचनाकार

 


   ब्रह्मेश्वर नाथ मिश्र