कब लोगे खबर मोरे राम……… ब्रह्मेश्वर नाथ मिश्र

प्रस्तुत है शरणागत भजन के रूप में मेरी ये रचना:—

https://rashtriyamukhyadhara.com/wp-content/uploads/2023/10/nagada-Ad-1a-e1696547149782.jpg

कब लोगे खबर मोरे राम ,
मैं तो आयो शरन में ।
मैं कामी क्रोधी और लोभी ,
पापी कुटिल विषयी और भोगी ,
अधम कपट के धाम ।
मैं तो आयो शरन में ।
कब लोगो खबर मोरे राम…….
कितने अधम तेरी शरन में आए ,
तिन्हके प्रभू अपराध भुलाए ,
पहुँचायो प्रभू निज धाम ।
मैं तो आयो शरन में ।
कब लोगे खबर मोरे राम…….
शबरी अहिल्या अजामिल को तारे ,
पापी अधम तरि गए सब सारे ।
लेकर तुम्हारा हीं नाम ।
मैं तो आयो शरन में ।
कब लोगे खबर मोरे राम….….

 

रचनाकार


   ब्रह्मेश्वर नाथ मिश्र