युवाओं का भविष्य संवार रहा वेदांता ईएसएल स्किल स्कूल

  • वेदांता ईएसएल स्किल स्कूल ने 521 से अधिक छात्रों को प्रशिक्षित किया,  अब तक 377 छात्रों को सोलर पावर / गारमेंट्स उत्पादन आदि अग्रणी फर्मों में मिला प्लेसमेंट
  • नाबार्ड के डीडीएमश्री फिलमून बिलुंग और ईएसएल स्टील लिमिटेड के सीएसआर के उप प्रमुख  राकेश कुमार मिश्रा द्वारा बैच को सम्मानित किया गया
  • सभी 35 छात्र जिन्होंने अपना पाठ्यक्रम पूरा किया और सफलतापूर्वक प्लेसमेंट प्राप्त किया। सभी ईएसएल स्टील लिमिटेड सीएसआर के परिचालन क्षेत्र चंदनकियारी और चास ब्लॉक के 27 गांवों से
BOKARO : वेदांता ईएसएल स्किल स्कूल इस क्षेत्र के युवाओं को बेहतर भविष्य प्रदान कर रहा है। इस स्कूल से सफल होने वाले सैकड़ों युवा आज अपने पैरों पर खड़े होकर विभिन्न क्षेत्रों नियोजित हो चुके हैं। वेदांता ईएसएल स्किल स्कूल ने अब तक 521 से अधिक छात्रों को प्रशिक्षित किया, जिनमें अब तक 377 छात्रों को सोलर पावर, गारमेंट्स उत्पादन आदि अग्रणी फर्मों में प्लेसमेंट मिला है। जबकि, इससे प्रशिक्षित शत-प्रतिशत युवाओं को रोजगार मिल चुका है। गुरुवार को एक कार्यक्रम में नाबार्ड के डीडीएम फिलमून बिलुंग तथा ईएसएल स्टील लिमिटेड के सीएसआर उप प्रमुख राकेश कुमार मिश्रा ने 35 वैसे छात्रों को सम्मानित किया, जिन्होंने अपना पाठ्यक्रम पूरा कर सफलतापूर्वक प्लेसमेंट प्राप्त किया है। ये सभी युवा ईएसएल स्टील लिमिटेड सीएसआर के परिचालन क्षेत्र चंदनकियारी और चास प्रखंड के 27 गांवों से हैं। 
 
https://rashtriyamukhyadhara.com/wp-content/uploads/2023/10/nagada-Ad-1a-e1696547149782.jpg
उल्लेखनीय है कि वेदांता समूह की कंपनी ईएसएल स्टील भारत की एक अग्रणी ग्रीनफील्ड एकीकृत स्टील उत्पादक है, जो अपने क्षेत्र में समाज और समुदाय के कल्याण के लिए प्रयासरत है। कंपनी को सामाजिक और सामुदायिक विकास प्रयासों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता के लिए विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सरकारी संगठनों और गैर सरकारी संगठनों से कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। गुरुवार को वेदांता ईएसएल स्किल स्कूल से सोलर पीवी इंस्टॉलर ट्रेड प्रशिक्षण सफलतापूर्वक पूरा करने वाले 35 छात्रों के बैच को सम्मानित सम्मानित किया गया। इन 35 छात्रों ने न केवल सफलतापूर्वक अपना कोर्स पूरा किया है, बल्कि उन सभी ने हैदराबाद स्थित प्रीमियर एनर्जीज के साथ प्लेसमेंट भी हासिल किया है, जो अक्षय ऊर्जा क्षेत्र की एक अग्रणी कंपनी है, जिसका औसत सीटीसी 2,00,000 रुपये प्रति वर्ष है। नाबार्ड की ओर से सराहना के तौर पर सफलतापूर्वक अपना कोर्स पूरा करने वाले छात्रों को एक सोलर किट भेंट की गई, जिसमें विभिन्न उपकरण, औजार और गैजेट शामिल थे, जो उनके पेशे में उनकी मदद करेंगे। 

इस अवसर पर सीएसआर ईएसएल स्टील लिमिटेड के उप प्रमुख राकेश कुमार मिश्रा ने कहा कि वेदांता संगठन अपने परिचालन क्षेत्र के गांवों से युवा प्रतिभाओं के कौशल विकास के प्रति न सिर्फ प्रतिबद्ध है, बल्कि यह कंपनी की एक रणनीतिक अनिवार्यता है। वेदांता ईएसएल कौशल विकास परियोजना के माध्यम से हम न केवल उज्जवल भविष्य को आकार दे रहे हैं, बल्कि निरंतर विकास और प्रगति के लिए एक मजबूत व सशक्त समुदाय का निर्माण भी कर रहे हैं।

दरअसल, वेदांता ईएसएल कौशल स्कूल युवाओं को स्थायी रोजगार के अवसर प्रदान करता है। सीड्स की ओर से सोलर पीवी इंस्टॉलेशन और सिलाई मशीन ऑपरेशन जैसे ट्रेडों में छात्रों को प्रशिक्षित करने पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ बुनियादी कंप्यूटर ज्ञान ने छात्रों की बहुत मदद की है। प्रदान किए गए सभी पाठ्यक्रम एन.एस.डी.सी. से प्रमाणित हैं, जो उद्योग-मानक प्रशिक्षण सुनिश्चित करते हैं। इसके अलावा, परियोजना प्रशिक्षित उम्मीदवारों में से कम से कम 70% की नियुक्ति का आश्वासन देती है। प्रशिक्षित उम्मीदवारों को ब्लू जर्सी गारमेंट्स, अदानी पावर, प्रीमियर एनर्जीज आदि जैसी कंपनियों में रखा गया है।